सप्ताह में दो दिनों के बाजार बंद रखे जाने के सरकार के आदेशों के खिलाफ केबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा से मिले शहर के व्यापारी

नवभास्कर न्यूज. फरीदाबादः शनिवार व रविवार को लॉकडाऊन फिर से शुरू होने से शहर के व्यापारी परेशान है। शहर के व्यापारिक संगठनों के नेताओं ने शनिवार को परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा से मुलाकात की। इस दौरान व्यापारियों ने उनसे मांग रखी कि बाजार और दुकानें शनिवार व रविवार को बंद रखे जाने की बजाय सोमवार और मंगलवार को बंद करने का नियम बनाया जाए।
हरियाणा में कोरोना वायरस के बढते मामलों के मद्देनजर
शुक्रवार को गृहमंत्री अनिल विज ने आदेश जारी किए थे कि अब फिर से शनिवार और रविवार को दुकानें बंद रहेंगी। देर रात आए इन आदेशों के बाद व्यापारियों को कुछ समझने का मौका भी नहीं मिला और शनिवार सुबह जैसे ही व्यापारी दुकानें खोलने पहुंचे तो पुलिस प्रशासन ने उन्हें बंद करवाना शुरू कर दिया। इससे बिफरे व्यापारी एकजुट होना शुरू हो गए।
बल्लभगढ से व्यापारियों का एक शिष्ट मंडल प्रधान प्रेम खट्टर के नेतृत्व में परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा से मिला।
इस दौरान उनके साथ वस्त्र व्यापार मंडल के प्रधान संजय गुप्ता, मनोज गोयल,राजीव गोयल आदि एक दर्जन से अधिक व्यापारी नेता मौजूद रहे।

प्रेम खट्टर ने परिवहन मंत्री शर्मा से कहा कि कोरोना काल में पिछले चार महीने के लॉकडाउन ने आम आदमी सहित उद्यमियों और व्यापारियों की कमर तोड़ कर रख.दी है। ऐसे में शनिवार और रविवार के बंदी के आदेश से फिर व्यापारियों को बड़ा झटका लगेगा। उन्होंने कहा कि बाजार में शनिवार और रविवार को ही सर्वाधिक रौनक होती है। अन्य सरकारी और निजी प्रतिष्ठान बंद रहने से लोग अवकाश के कारण बाजार में खरीदारी करने निकलते है। यदि इन दिनों में अवकाश रहा, तो व्यापारियों का काम-धंधा चौपट हो जाएगा।व्यापारी नेताओं ने कहा कि यदि दो दिनों का अवकाश आवश्यक ही है तो शनिवार और रविवार के बजाय सोमवार और मंगलवार के दिन अवकाश रखा जाए, ताकि व्यापारियों का धंधा भी चौपट न हो और आम लोगों को भी खरीददारी का मौका मिल सके।
व्यापारियों की बात सुनने के बाद परिवहन मंत्री ने डीसी यशपाल से बात की। डीसी ने कहा कि वे सरकारी आदेशों के सामने विवश हैं।
तब परिवहन मंत्री शर्मा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात की। सीएम ने कहा कि वे इस समस्या पर विचार करेंगे।
(रिपोर्टःयोगेश अग्रवाल)

योगेश अग्रवाल - 9810366590

नवभास्कर न्यूज़ एक माध्यम है आप की बात आप तक पहुंचने का!