भारत सरकार ने खरीफ की फसलों के लिए एमएसपी बढ़ाकर किसानों को दिया तोहफा:बिजेंद्र नेहरा

नवभास्कर न्यूज. फरीदाबादः भाजपा हरियाणा पैनलिस्ट प्रवक्ता बिजेंद्र नेहरा ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आयोजित केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में खरीफ विपणन मौसम 2021-22 के लिए सभी खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया है। तिल के एमएसपी में प्रति क्विंटल 452 रुपये की बढ़ोतरी की गई है, जबकि उड़द और तुर दाल के एमएसपी में प्रति क्विंटल 300 रुपये की बढ़ोतरी हुई है। कपास का एमएसपी 211 रूपए बढ़ाया गया है ,बाजरे का एमएसपी 100 रुपए बढ़ाया गया है, ज्वार में 118 रुपए की बढ़ोतरी हुई है और धान का एमएसपी भी 72 रुपए बढ़ाया गया है। सभी फसलों के लागत मूल्य पर मुनाफा कम से कम 50% से 85% तक बढ़ाया गया है। बिजेंद्र नेहरा ने बताया कि आज आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी करके किसानों को बड़ा तोहफा दिया है।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भी आज फिर स्पष्ट किया कि एमएसपी था एमएसपी है और एमएसपी रहेगा। भारत सरकार और हरियाणा सरकार पूरी तरह से किसानों को समर्पित है और किसानों के हित में काम कर रही है। विजेंदर नेहरा ने बताया कि कांग्रेस पार्टी के शासनकाल में हम देखते थे कि 10 और 20 रुपए की बढ़ोतरी होती थी, कांग्रेस पार्टी ने 70 साल में फसलों के उतने रेट नहीं बढ़ाएं, जितने मोदी सरकार ने 7 साल में बढ़ाए हैं। 2014 में जब भाजपा सरकार आई तो बाजरे का रेट 1250 रुपए प्रति क्विंटल था आज यह 2250 हो गया है, कपास का रेट 3500 रुपए प्रति क्विंटल था जो आज बढ़कर 5500 रुपए हो चुका है। धान का रेट 1330 रुपए था आज यह बढ़कर 1940 रुपए हो गया है। गेहूं का रेट भी 1300 रुपए था जबकि अबकी बार गेहूं एमएसपी पर 1925 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से सरकार ने खरीदा था,उस समय सरसों का एमएसपी भी 3000 रुपए था जो अब बढ़कर 4650 रुपए प्रति क्विंटल हो चुका है। हरियाणा सरकार ने भी प्रदेश के किसानों का 83 लाख मैट्रिक टन गेहूं MSP पर खरीद कर 16000 करोड रुपए से अधिक की राशि किसानों के बैंक खातों में ट्रांसफर कर दी है। किसान के खेत तक पानी पहुंचाने की व्यवस्था करने की बात हो, या सुचारू रूप से बिजली देने की बात हो, या फिर डीएपी खाद पर सब्सिडी 500 रुपए से बढ़ाकर 1200 रुपए करके डीएपी खाद किसानों को 1200 रुपए में ही उपलब्ध करवाने का मामला हो, सरकार पूरी तरह से किसानों के हित में काम कर रही है। पूर्व में हरियाणा के कृषि मंत्री रहे व वर्तमान समय में भाजपा हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने भी किसानों के लिए कई योजना चलाकर और फसल खराब होने पर उनके मुआवजे को 8000 रुपए प्रति एकड़ से 12000 प्रति एकड़ बढ़वाकर एवं स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करवाकर किसानों के हित में बड़ा काम किया। उसी तरह से मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में हरियाणा सरकार भी किसानों के हित में लगातार काम कर रही है ।विजेंदर नेहरा ने कहां की वह स्वयं एक किसान हैं इसलिए कह सकते हैं कि किसान का भला सिर्फ भाजपा ही कर सकती है।

(रिपोर्टःयोगेश अग्रवाल.9810366590)

विज्ञापन

योगेश अग्रवाल - 9810366590

नवभास्कर न्यूज़ एक माध्यम है आप की बात आप तक पहुंचने का!