बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेशन ने कोविड-19 सेे वैश्विक स्तर पर मुकाबला करने के लिए बढाई अपनी फंडिंग।$150 मिलियन (लगभग 1151.40 करोड़ रू.) के अतिरिक्त अनुदान की फंडिंग का उपयोग आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति बढ़ाने और जीवन विज्ञान कम्पनियों को कोविड-19 उत्पादों के उत्पादन हेतु वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने में मदद के लिए किया जा सकेगा।

-बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेशन ने कोविड-19 के वैश्विक स्तर पर मुकाबले के लिए अपनी प्रतिबद्धता का विस्तार करते हुए हर स्थान पर वायरस से लोगों को सुरक्षित करने का आव्हान किया

-अतिरिक्त फंडिंग से निदान, चिकित्सा विधियों और वैक्सीन्स के विकास में मदद के लिए $250 मिलियन (1916.68 करोड़ रू.)से अधिक की राषि से अफ्रीकी और दक्षिण एषियाई क्षेत्रों के स्वास्थ्य तंत्रों को मज़बूत करने और वायरस के सामाजिक एवं आर्थिक प्रभावों को कम करने में सहायता मिलेगी

नवभास्कर न्यूज. नई दिल्लीः बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेशन ने कोविड-19 सेे वैष्विक स्तर पर मुकाबला करने के लिए अपनी फंडिंग को बढ़ाने की घोषणा की। इस वृद्धि में $150 मिलियन (लगभग 1151.40 करोड़ रू.) के अतिरिक्त अनुदान की फंडिंग और फाऊंडेशन के स्ट्रेटेजिक इंवेस्टमेंट फंड के संसाधानों को बढ़ाने की प्रतिबद्धता शामिल है, जिनका उपयोग आवष्यक चिकित्सा आपूर्ति की तीव्र खरीदारी को बढ़ाने और जीवन विज्ञान कम्पनियों को कोविड-19 उत्पादों के उत्पादन हेतु वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने में मदद के लिए किया जा सकेगा। फंडिंग की घोषणा करते हुए, फाऊंडेषन ने विष्व नेतृत्व से कोविड-19 के वैष्विक प्रत्युत्तर के लिए एक साथ मिल कर काम करने का आव्हान किया ताकि निदान, उपचारों और वैक्सीन्स तक एक समान पहुंच को सुनिष्चित किया जा सके।

गेट्स फाऊंडेषन की सह-अध्यक्षा मेलिंडा गेट्स ने कहा, ‘‘यह तेज़ी से स्पष्ट हो रहा है कि इस महामारी से मुकाबला करना तब तक प्रभावी नहीं हो सकता जब तक यह एक समान रूप से न हो। हम पर इस वैष्विक संकट को वैष्विक एकजुटता से निपटाने की ज़िम्मेदारी है। डायगनास्टिक्स, उपचारों और वैक्सीन्स के विकास में योगदान देने के अलावा, इन निधियो (फंड्स) का उपयोग निम्न-और-मध्यम आय वर्ग के देषों में कोविड-19 के विरूद्ध चल रहे प्रयासों में सहयोग के लिए किया जाएगा, जहां स्थानीय नेता और हैल्थकेयर कर्मचारी कमज़ोर समुदायों की सुरक्षा और रोग के प्रसार को धीमा करने क लिए शानदार कार्य कर रहे हैं।’’

फाऊंडेषन की नई $150 मिलियन (लगभग 1151.40 करोड़ रू.) की घोषणा डायनास्टिक्स, उपचारों और वैक्सीन्स के विकास को धन उपलब्ध कराने के साथ-साथ अफ्रीका और दक्षिण एषिया में पार्टनर्स को संसाधन उपलब्ध कराने की कोषिष करेगी जिससे वे कोविड-19 की पहचान, इलाज और आइ्रसोलेषन प्रयासों को आगे बढ़ा सकें।

फाउंडेशन अपने $2.5बिलियन (लगभग 19175 करोड़ रू.) स्ट्रेटेजिक इनवेस्टमेंट फंड के एक हिस्से का उपयोग बाजार की विफलताओं को दूर करने के लिए वित्तीय साधन उपलब्ध कराने और सस्ती और सुलभ स्वास्थ्य उत्पादों को विकसित करने के लिए निजी उद्यमों को प्रोत्साहित करने हेतु भी करेगी। ये फंड, जिनमें इक्विटी निवेश, ऋण और वॉल्यूम गारंटियां शामिल हो सकती हैं, का उपयोग निम्न और मध्यम आय वाले देशों ( स्डप्ब्े) में स्वास्थ्य प्रणालियों में मदद करने, स्वास्थ्य कर्मचारियों को कोविड-19 निदानों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों की तेजी से खरीद की सुविधा प्रदान करने, ऑक्सीजन चिकित्सा, और अन्य आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति में किया जाएगा। स्ट्रेटेजिक इन्वेस्टमेंट फंड द्वारा उत्पन्न किसी भी वित्तीय लाभ को गेट्स फाउंडेशन के परोपकारी कार्यक्रमों में फिर से निवेश किया जाता है।

आज की फंडिंग की घोषणा फाऊंडेषन द्वारा वैष्विक प्रत्युत्तर के लिए की गई $100 मिलियन (लगभग 767.60 करोड़ रू.) की पहली घोषणा और वृह्द सिएटल क्षेत्र में सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंसियों और अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे संगठनों की सहायता के लिए $5 मिलियन की घोषणा के आधार पर की गई है। प्रारंभिक फाऊंडेषन फंडिंग से कोविड-19 के निदानों, चिकित्साविधान और वैक्सीन्स की तलाष में मदद मिली है, अफ्रीका में वायरस की जांच को बढ़ावा मिला है और चीन में इससे मुकाबला करने में योगदान मिला है। फाऊंडेषन ने अपनी प्रोग्रेमेेटिक तकनीकी विषेषज्ञता को महामारी के बहुआयामी, राष्ट्रीय और उप-राष्ट्रीय प्रत्युत्तर के लिए निर्देषित किया है।

फाऊंडेषन के सह-अध्यक्ष, बिल गेट्स ने कहा, ‘‘कोविड-19 के लिए सीमाओं का कोई महत्व नहीं है। यदि अगले कुछ महीनों में अधिकांष देष रोग की गति को कम करने मे ंकामयाब हो भी जाते हैं तो वायरस के कहीं और शक्तिषाली बने रहने से यह महामारी वापिस लौट सकती है। वैष्विक समुदाय को यह समझना चाहिए कि जब तक कोविड-19 कहीं भी है, हमें यह सोच कर ही काम करना है कि यह सब जगह है। इस महामारी को परास्त करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय फंडिंग और सहयोग के अतुलनीय स्तर की आवष्यकता है।’’

यद्यपि इस बात पर कोई एकमत राय नहीं है कि कोविड-19 को हराने के लिए कुल कितने संसाधनों की आवष्यकता होगी लेकिन यह तय है कि यह किसी भी एक योगदानकर्ता के सहयोग से पूरी नहीं हो सकती। आगे आने वाले महीनों में कई बिलियन डाॅलर की फंडिंग के लिए सभी क्षेत्रों को एक साथ आगे लाने के एक समन्वित, अंतर्राष्ट्रीय प्रयास की आवष्यकता पड़ेगी। कोलीषन फार एपिडेमिक प्रिपेयर्डनेस इनोवेषंस (ब्म्च्प्) और गावी(ळ।टप्), द वैक्सीन एलायंस जैसे संस्थान कोविड-19 वैक्सीन्स के विकास और आपूर्ति के लिए समन्वय कर सकते हैं लेकिन उन्हें इसके लिए नए तरह के संसाधनों की आवष्यकता होगी। अन्य संगठन जैसे विष्व स्वास्थ्य संगठन (ॅभ्व्), देषों की सरकारें और निजी कम्पनियांे को वैक्सीन्स केंडीडेट्स के निर्माण जोखिम के लिए धन की आवष्यकता होगी और यह सुनिष्चित करना होगा कि दुनिया भर की जनसंख्या को आवष्यक उत्पाद समान मात्रा में मिल सकें।

फाऊंडेषन के सीईओ मार्क सुज़मैन ने कहा,‘‘इस महामारी के कारण एक असाधारण परोपकारी प्रतिक्रिया सामने आई है। हालांकि इस वैष्विक संकट को हराने के लिए किए जाने वाले समंवित प्रयास के लिए यह केवल एक छोटा सा हिस्सा है। परोपकार सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों का समर्थन नहीं कर सकता और न ही ऐसा किया जाना चाहिए। परोपकार उन विचारों का कार्यान्वन है जिनका अभी तक प्रयास नहीं किया गया इसलिए सरकारें और व्यवसाय, केवल सफल प्रयास ही अपनाते हैं। सभी क्षेत्रों को एक साथ जोड़ कर हम मानवीय, आर्थिक और सामाजिक लागतों को सबसे खराब स्थिति में पहुंचाने से बचा सकते हैं।’’

अपनी नई 150 मिलियन डाॅलर(लगभग 1151.40 करोड़ रू.) की प्रतिबद्धता की घोषणा में, फाऊंडेषन ने निवेष के लिए चार प्राथमिकतापूर्ण क्षेत्रों का चयन किया हैः

वायरस की पहचान की प्रक्रिया तेज़ करना

फाऊंडेषन उप-सहारा अफ्रीका और दक्षिण एषिया में पार्टनर्स को फंडिंग उपलब्ध कराएगी ताकि वे अपनी कोविड-19 की जांच, उपचार और आइ्रसोलेषन प्रयासों में तेज़ी ला सकें। कुछ देषों में, इसमें पोलियो उन्मूलन और मलेरिया समापन प्रयासों से आमतौर पर जुड़े आपातकालीन परिचालन केंद्रों का उपयोग कोविड-19 की जांच के लिए करना शामिल है।

सर्वाधिक कमज़ोरों की सुरक्षा

फाऊंडेषन फंडिंग से उप-सहारा अफ्रीका और दक्षिण एषिया में पार्टनर्स को शारीरिक दूरी बनाए रखने और संक्रमण को दबाने के विभिन्न तरीकों में मदद मिलेगी जहां स्टे-एट-होम नीतियां और अन्य शारीरिक दूरी बनाए रखने की रणनीतियां व्यवहारिक नहीं हैं। इसका लक्ष्य संक्रमण समाप्त करने वाली रणनीतियों की पहचान करना होगा जिन्हें प्रभावी तरीके से न्यूनतम सामाजिक और आर्थिक व्यवधान के साथ प्रभावी तरीके से बनाए रखा जा सकता है। मुख्य रूप से संक्रामक रोगों के रोकथाम कार्यक्रमों को लागू करने के दो दषकों के अनुभव के महत्व और सामुदायिक नेतृत्व वाले प्रयासों से सीखे गए परिणामोें पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

फाऊंडेषन अपनी गतिविधियों में लैंगिक समानता के मुद्दों पर भी विचार करेगी और यह निम्न और मध्यम आय वाले देशों (स्डप्ब्े) में महिलाओं और लडकियों पर विभिन्न स्वास्थ्य, आर्थिक और सामाजिक प्रभावों के अनुसंधान में भी सहयोग करेगी। इससे महामारी और वैष्विक नीति प्रत्युत्तरों के लिए फाऊंडेषन की अल्प, मध्यम और दीर्घकालिक नीति प्रतिक्रिया के बारे में जानकारी देने में भी मदद मिलेगी। यह प्रयास महिलाओं और लड़कियों के अनुभव को दर्षाने वाले लैंगिक आधार के आंकड़ों और सर्वेक्षणों की परिकल्पना और क्रियांवन वाले फाऊंडेषन के मौजूदा काम पर आधारित होगा।


सामाजिक और आर्थिक प्रभाव को न्यूनतम करना

फाऊंडेषन निम्न और मध्यम आय वाले देशों ( स्डप्ब्े) को गैरचिकित्सा फंडिंग उपलब्ध कराएगी ताकि वे उन लोगों को सामाजिक एवं आर्थिक मदद प्रदान कर सकें जो घोर गरीबी में रह रहे हैं या जो कोविड-19 महामारी के कारण ऐसी गरीबी की स्थिति में आने के जोखिम पर हैं। उप-सहारा अफ्रीका और दक्षिण एषिया की जनसंख्या मिल कर दुनिया भर की कुल जनसंख्या 629 मिलियन का 85 प्रतिषत है जो प्रतिदिन $1.90 (लगभग 145 रू.) से कम राषि पर अपना जीवन गुज़ारते हैं और महामारी के बाद, ऐसे लोगों पर उसका विपरीत प्रभाव पड़ेगा जो पर्याप्त पोषण, सुरक्षित स्वच्छता और गुणवत्तपूर्ण आवास की व्यवस्था नहीं कर सकते। विकट गरीबी में रहने वाले लोगों के लिए शारीरिक दूरी या फिजिकल डिस्टेंसिंग बना कर रखना भी संभव नहीं है क्योंकि वे बिना काम किए जीवित नहीं रह सकते।

फाऊंडेषन पार्टनर्स के साथ मिल कर उन समुदायों को सामाजिक भुगतान प्रणालियों तक पहुंच का विस्तार करेगी जो कोविड-19 संचरण का समाप्त करने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के कारण गंभीर सामाजिक व आर्थिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

निरंतर प्रतिक्रिया के लिए उत्पाद विकसित करना

फाऊंडेषन सरकार, निजी क्षेत्र और बहुआयामी संस्थानों के साथ काम करते हुए और कोविड-19 के लिए निदान, चिकित्साविज्ञान और वैक्सीन्स के विकास के प्रयासों में तेज़ी लाने के लिए निवेष जारी रखेगी ताकि इन उत्पादों के उपलब्ध हो जाने पर उनका तेज़ी से निर्माण और समान अनुपात में खरीद तथा वितरण सुनिष्चित हो सके।

इस कार्य में वहनीय और सुलभ प्वांइट-आॅफ-केयर डागनास्टिक्स के साथ-साथ उपचारों व वैक्सीन्स के विकास के लिए सहायता के प्रयास भी शामिल होंगे जिनका एक बार क्लीनिकल ट्रायल्स प्रदर्षित होने व उनकी प्रभावकता व सुरक्षा सुनिष्चित होने के बाद तेज़ी से उत्पादन किया जा सके। फाऊंडेषन सरकार, सीईपीआई (ब्म्च्प्) और निजी क्षेत्र के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि वैक्सीन निर्माण क्षमता की तेज़ी से वृद्धि के लिए वित्त पोषण उपलब्ध कराया जा सके। इससे वैक्सीन कैंडिडेट्स का उत्पादन हो सकेगा ताकि एक बारे क्लीनिकल ट्रायल्स के नतीते मिल जाने पर वैष्विक स्तर पर वैक्सीन की आपूर्ति को तेज़ किया जा सके।

फाऊंडेषन राष्ट्रीय सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों जैसे विष्व स्वास्थ्य संगठन (ॅभ्व्), यूनीसेफ(न्दपबम)ि; गावी (ळ।टप्) और ग्लोबल फंड टू फाइट एड्स, टुबरक्लोसि एंड मलेरिया के साथ मिल कर काम करेगी ताकि निम्न और मध्यम आय वाले देशों ( स्डप्ब्े) को आवष्यक वस्तुओं तक समान सुलभता सुनिष्चित हो सके और यह भी सुनिष्चित हो सके कि गावी और ग्लोबल फंड सक्षम देषों में उनकी तीव्र व व्यापक आपूर्ति के लिए सप्लाई एवं वितरण श्रृंखलाओं को पूरी तरह से तैयार कर लिया गया है।

पिछली प्रतिबद्धताओं की विस्तृत जानकारी ीजजचेरूध्ध्ूूूण्हंजमेविनदकंजपवदण्वतहध्उमकपं.बमदजमतध्चतमेे.तमसमंेमे पर देखी जा सकती है।

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेषन के विषय में

‘हर ज़िंदगी की कीमत एक जैसी होती है’ की मान्यता पर आधारित बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेषन सभी लोगों को स्वस्थ, उत्पादक जीवन जीने में मदद देने के लिए काम करती है। विकासषील देषों में यह लोगों के स्वास्थ्य में सुधार करने और उन्हें भूख और अत्यधिक गरीबी से बाहर निकालने का अवसर देने में मदद करती है। अमेरिका में यह सुनिष्चित करती है कि सभी लोग -विषेषरूप से वे जिनके पास बहुत कम संसाधन हैं – को ऐसे अवसर उपलब्ध हो सकें जिससे वे स्कूल और जीवन में सफल हो सकें। सिएटल, वाषिंगटन में स्थित, फाऊंडेषन का नेतृत्व सीईओ मार्क सुज़मैन और सह-अध्यक्ष विलियमस एच.गेट्स सीनियर द्वारा बिल एवं मेलिंडा गेट्स तथा वारेन बफे के दिषानिर्देष में किया जाता है।

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेषन स्ट्रेेटिजिक इंवेस्टमेंट फंड के विषय में

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाऊंडेषन स्ट्रेेटिजिक इंवेस्टमेंट फंड (ैप्थ्)‘का लक्ष्य निजी क्षेत्र द्वारा चालित नवाचार को आगे बढ़ाना, बाज़ार-चालित क्षमताओं को प्रोत्साहित करना और प्राथमिकतापूर्ण वैष्विक स्वास्थ्य एवं विकास प्रयासों के लिए बाहरी पूंजी जुटाना है जो दुनिया भर में वंचित लोगों के स्वास्थ्य में सुधार और कल्याण के लिए काम करते हैं। ये निवेष लाभकारी व गैरलाभकारी दोनों तरह के पार्टनर्स के लिए इक्विटी निवेषों, ऋणों और वाल्यूम गारंटियों के रूप में हो सकते हैं। 2009 से एसआईएफ (ैप्थ्)‘टीम ने फाऊंडेषन की तकनीकी व निवेष विषेषज्ञता के साथ 80 निवेषों में पूंजीनिेवष किया है ताकि बाज़ार से गरीबों के लिए धन जुटाया जा सके। स्ट्रेेटिजिक इंवेस्टमेंट फंड से मिला कोई भी लाभ गेट्स फाऊंडेषन के परोपकारी कार्यक्रमों में फिर से निवेषित किया जाता है।

योगेश अग्रवाल.9810366590

योगेश अग्रवाल - 9810366590

नवभास्कर न्यूज़ एक माध्यम है आप की बात आप तक पहुंचने का!