पिछले दो माह से भूखे व जरूरतमंदो का निरंतर पेट भरने के साथ-साथ छोटे नन्हे बच्चों की भी जरूरतों को पूरा कर रही टीम देवराज

नवभास्कर न्यूज. फरीदाबादः राजनीति व जाति पाति से अलग हटकर वार्ड न. 40 में एक ऐसा शख्स भी है जो कोरोना आपदा में पिछले करीब दो माह से भूखे व जरूरतमंदो का निरंतर पेट तो भर ही रहा है साथ ही छोटे छोटे नन्हे बच्चों की भी जरूरतों को पूरा कर रहा है। हम बात कर रहे है वार्ड नं.40 के समाजसेवी देवराज उर्फ देव की। टीम देवराज जिस दिन से लॉकडाऊन हुआ है, उसी दिन से अब तक बिना रूके भूखों को खाना खिला रही है। इसके अलावा देवराज जरूरतमंदो की अपने स्तर पर आर्थिक मदद भी करने में पीछे नहीं हैं।
देवराज को बच्चों से भी बेहद लगाव है। देवराज ने बताया कि अभी कुछ दिन पहले एक छोटी बच्ची खाना लेने के लिए लाइन में लगी हुई थी। अचानक उसकी बच्ची पर नजर पडी तो वह बच्ची के पास गए और उसे सबसे आगे लेकर आए और खाना दिया। बच्ची ने बडी ही मासूमियत से अपनी मां के लिए भी खाना मांगा तो उन्होंने उसका नाम पूछा।बच्ची ने चेहरे पर मुस्कान बिखेरते हुए बताया कि उसका नाम रानी है। और उसकी मां की तबीयत बेहद खराब है। देवराज उसी समय बच्ची के साथ उसके घर पहुंचे। घर पर बिस्तर पर उसकी मां व घर की स्थिति को देखकर उन्हें समझते देर नहीं लगी कि परिवार इस लॉकडाऊन में किस हालात से गुजर रहा है। उन्होंने रानी से कहा कि अब उसे खाना लेने के लिए आने की आवश्यकता नहीं हैं ,टीम देव घर पर ही खाना व अन्य जरूरत का सामान अपने आप पहुंचा देगी। इसके अगले दिन देवराज ने बच्ची को कई नई ड्रेस दिलवाई जिसके बाद बच्ची रानी जैसी ही लगने लगी। तब से रानी के परिवार की जरुरतें टीम देव ही पूरी कर रही है। देवराज ने बताया कि मदर्स डे के दिन रानी उसके लिए अपने हाथों से बना ग्रीटिंग कार्ड व फ्लावर पॉट बना कर लाई,जिस पर लिखा था थैंक्स देव सर। यह देखकर उनकी आंखों में आंसू आ गए। इसके अलावा भी देवराज ऐसे ही कई और भी जरूरतमंद परिवारों की बिना किसी लालच के मदद करने में जुटे हैं। नेशनल हाइवे से पैदल जा रहे प्रवासियों को भी देवराज भूखा नहीं जाने दे रहे। देवराज का कहना है कि इंसानियत हमारे समाज मे जिंदा है,सदियों से चली आ रही अन्न दान की परंपरा को लोग निभा रहे हैं। वह भी उसी परंपरा का निर्वाह कर रहें हैं।
(रिपोर्टःयोगेश अग्रवाल)

योगेश अग्रवाल - 9810366590

नवभास्कर न्यूज़ एक माध्यम है आप की बात आप तक पहुंचने का!