गांव गढ़खेड़ा ने पेश की मिसालः 22 वर्षीय बेटी मीनाक्षी के सिर रखा सरपंची का ताज

-एमए(हिन्दी) की छात्रा है मीनाक्षी, बोली – पिता का साया उठने से जीवन में खालीपन था, गाँव के लोगों ने आर्शीवाद देकर कमी को पूरा किया।

-रविवार देर रात तक गाँव में हुई पंचायत, काफी जद्दोजहद के बाद ग्रामीण ने लिया ऐतिहासिक फैसला।

योगेश अग्रवाल. फरीदाबादः जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर दूर गाँव गढ़खेड़ा में रविवार देर रात नई पहल की शुरूआत हुई। ग्रामीणों ने एकजुट होकर वाल्मीकी समाज की बेटी कुमारी मीनाक्षी को निर्विरोध सरपंच का उम्मीदवार घोषित किया। रविवार देर रात हुए फैसले को लेकर ग्रामीण खूब उत्साहित हैं। बेटी पर सहमति बनाने के लिए बाकि इच्छुक उम्मीदवारों को समझाया गया।
बता दें कि आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत सामूहिक रूप से 75 फुट ऊंचा तिरंगे लगाने वाले गाँव गढ़खेड़ा भी निर्विरोध पंचायत गठन की कवायद में जुटा हुआ है। करीब डेढ महीने से ग्रामीण निर्विरोध पंचायत बनाने को लेकर लगातार बैठकें कर रहे हैं। गाँव में सर्वसम्मति बनाने के लिए तीन बड़ी समन्वय बैठक व दर्जनों नुक्कड बैठकें हो चुकी हैं। जिसमें अधिकांश भावी सरपंच पद के उम्मीदवारों ने गाँव-बस्ती के फैसले का पुरजोर स्वागत किया। ग्रामीणों का कहना है कि वोट-बैंक की राजनीति गाँव के भाईचारे को नुकसान पहुंचा रही है। यह गाँव के विकास में भी अक्सर अड़चन पैदा करती रही है। इसलिए ग्रामीण इसबार निर्विरोध पंचायत बनाना चाहते हैं। गाँव में निर्विरोध पंचायत मुहिम का व्यापक असर भी दिखाई दे रहा है। अधिकांश वार्ड में निर्विरोध पंचों का चुनाव किया जा रहा है।
एकबार फिर रविवार को निर्विरोध पंचायत को लेकर गाँव में सुबह-शाम दो बार बैठकों का आयोजन किया गया। बैठकों की अध्यक्षता कंवल लाल व श्रीचंद ने की। दोनों बैठकों में सरपंच पद के उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया और अपने विचार प्रकट किए। रात करीब 8 बजे हिन्दी(साहित्य) से एमए करने वाली छात्रा कुमारी मीनाक्षी को निर्विरोध सरपंच का उम्मीदवार घोषित किया गया।

इस मौके पर मीनाक्षी ने कहा कि वर्ष 2010 में पिता की मृत्यु हो जाने से एक खालीपन था, आज गाँव के बुजुर्गों ने उस कमी को पूरा कर दिया। यदि मुझे मौका मिला तो वह गाँव में सामूहिक विचार-विमर्श के बाद विकास कार्यों को करेंगी। अब ग्रामीण बाकी इच्छुक उम्मीदवार को मानने का प्रयास कर रहे है। ताकि गाँव में इसबार निर्विरोध सरपंच चुना जा सके। बैठक में विवेक सैनी, विजयपाल थानेदार, राजपाल तोमर, नेत्रपाल छौक्कर, प्रेमचंद मास्टर, पंडित शिवराम, वीरेंद्र फौजी, कृष्णा देवी, सुखदेव लोर, प्रताप सांगवान, मास्टर चंद्रपाल, सुनील सैनी, चौधरी डालचंद, माया देवी, बाबूराम कश्यप, खडक सिंह सैनी, राजवीर, लिखीराम, नवल सिंह, हरिदत्त वशिष्ठ और शब्बू सहित सैंकड़ों ग्रामीण मौजूद थे।

योगेश अग्रवाल - 9810366590

नवभास्कर न्यूज़ एक माध्यम है आप की बात आप तक पहुंचने का!